जानिए शेयरों के बदले लोन लेने के फायदे और नुकसान | Know the advantages and disadvantages of taking loans against shares

जानिए शेयरों के बदले लोन लेने के फायदे और नुकसान | Know the advantages and disadvantages of taking loans against shares

आज के दौर में कर्ज की जरूरत हर किसी को होती है. अगर आपके पास पैसे नहीं हैं और आप कुछ खरीदना चाहते हैं तो बैंक लोन लेना आपके लिए सुविधाजनक विकल्प है. इसके अलावा किसी वित्तीय आपदा की स्थिति में भी बैंक लोन हमारे जीवन को बहुत आसान बना देता है.
क्या आपने कभी गौर किया है कि आपको लोन देने वाला वित्तीय संस्थान आपके लोन पर ब्याज दर किस तरह लगाता है. इसके पीछे लोन की अर्जेंसी, लोन चुकाने का समय और ब्याज दर आदि की भूमिका होती है.
आप अपने शेयर, म्यूचुअल फंड, फिक्स्ड डिपाजिट या बीमा पॉलिसी के बदले भी लोन ले सकते हैं. म्यूचुअल फंड और शेयर के मामले में बैंक आपको निवेश की रकम के 50 % तक का लोन दे देते हैं. फिक्स्ड डिपाजिट के मामले में आपको निवेश की रकम का 75% तक ब्याज मिल सकता है.
ब्याज दर : 9-15%
फायदे : तुरंत भुगतान, कम ब्याज दर
नुकसान : अगर पोर्टफोलियो की वैल्यू गिरती है तो आपको लोन देने वाले संस्थान के पास ज्यादा फंड रखना पड़ेगा.

Post a Comment

0 Comments