डेबिट-क्रेडिट कार्ड का करवाएं इंश्योरेंस, चोरी या गुम हो जाने पर मिलेंगे कई फायदे


जरा सोचिए आप कहीं पर ट्रैवल कर रहे हैं अचानक आपको पता लगता है कि डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भरा पर्स चोरी हो गया है। जैसे ही आपको ये पता चलता है तो आप सबसे पहले अपने बैंक के कस्टमर केयर पर कॉल करके कॉर्ड ब्लॉक करवाते हैं। वहीं अगर आपको यह बाद में पता चले की आपके कार्ड चोरी हो गए हैं और चोरों ने उसका इस्तेमाल कर आपको चुना लगा दिया है?
ऐसे विकट समय में जो चीज आपके सबसे काम आएगी वह है कार्ड प्रोटेक्शन प्लान (सीपीपी)। इस प्लान के तहत आपको कार्ड खो जाने या चोरी हो जाने पर एक-एक करके अलग-अलग बैंकों को कॉल करने की जरूरत नहीं बल्कि सीपीपी एजेंट को सूचित करना होता है। इसके लिए हेल्पलाइन नंबर 60004000 बनाया गया है। एजेंट खुद आपके सभी कॉर्ड को ब्लॉक करवा देते हैं। इसमें क्रेडिड कार्ड और डेबिट कार्ड के साथ-साथ स्टोर, लॉयलटी, आधार, पैन कार्ड सभी शामिल हैं।
यदि आपके पास अपने होटल के खर्चों का भुगतान करने का कोई तरीका नहीं है, तो सीपीपी के साथ इस समस्या का भी समाधान हो जाएगा। आपके होटल का खर्च इस इंश्योरेंस कवर में शामिल होगा। और अगर आपके यात्रा के टिकट खो गए हैं या चोरी हो गए हैं, तो वे उन्हें भी बदलवा दिया जाएगा। कई मामलों में बिलों का निपटान करने के लिए नकद 28 दिनों के लिए ब्याज मुक्त है।

Post a Comment

0 Comments