अगर राज्य सरकारें इस तरह प्राइवेट बैंकों से पैसा निकालना शुरू कर देती हैं तो...


गिरीश मालवीय 
हिमाचल प्रदेश सरकार के 1,909 करोड़ रुपये यस बैंक में फंसे हुए हैं गुजरात की राजकोट महानगर पालिका के यस बैंक में 164 करोड़ रुपये जमा हैं गुरुग्राम मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी के 150 करोड़ रुपये बैंक में अटके हुए हैं।
हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम के कर्मचारियों के प्रोविडेंट फंड का करीब एक हजार करोड़ रुपये Yes Bank में फंसा हुआ है। .....हरियाणा सरकार ने  स्थानीय निकायों के साथ ही विभिन्न सरकारी विभागों, बोर्ड-निगमों और विश्वविद्यालयों से पूछा गया है कि किस-किस निजी बैंक में सरकारी रकम जमा है और कितनी। किसकी मंजूरी से Private Banks में यह पैसा जमा कराया गया।
यस बैंक मामले के बाद देश के तमाम प्राइवेट बैंक शक की निगाहों से देखे जाने लगे हैं। ऐसा माहौल बन रहा है कि जमाकर्ता प्राइवेट बैंक से पैसा निकाल कर सरकारी बैंकों में जमा कर रहे हैं। कुछ राज्य सरकारों ने भी प्राइवेट बैंक में जमा पूंजी को निकालना शुरू कर दिया है, जिसके बाद रिजर्व बैंक ने आकर सफाई दी है।
आरबीआई ने राज्य सरकारों से ऐसा नहीं करने की अपील की है।........रिजर्व बैंक ने इस बाबत सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को चिठ्ठी लिखी है  प्राइवेट बैंकों को लेकर जो आशंकाएं पैदा हुई हैं वह बेतुकी  है। अगर राज्य सरकारें इस तरह प्राइवेट बैंकों से पैसा निकालना शुरू कर देती हैं तो इससे बैंकिंग और फाइनेंशल सेक्टर पर बुरा असर होगा

Post a Comment

0 Comments